मुं‘भाई’ रिटर्न्स में हैं मुंबई अंडरवर्ल्ड के अछूते विषय

posted in: News & Investigations | 0

मुंबई माफिया पर पहली पुस्तक याने इस किताब का पहला खंड मुंभाई, में मुंबई माफिया के बारे में यह बताने और जताने का प्रयास है कि वह कितना खतरनाक, दुरूह, कठिन और अजाना है। मुंभाई में आतंकफरोशों के ढेरों राज फाश किए हैं। इसका दूसरा खंड मुंभाईरिटर्न्स भी साथ ही आ रहा है।

 

Book Cover 2D MumBhai Returns

खबरों के आगे बढ़ कर तैयार कुछ ऐसी सामग्री परोसने की जिद ने मुंभाई रिटर्न्स भी साथ ही तैयार करवाया। तीसरे खंड की तैयारी है। वह भी चंद दिनों में आप तक पहुंचाने का प्रयास होगा। आपके संग्रह के लिए कितनी उपयोगी साबित होगी, आप ही बेहतर बता सकेंगे।

 

इन रक्तजीवी प्रेतों के कुछ और अछूते रहस्यों तक पहुंचने की जद्दोजहद में गुंडों के उन छद्म नामों की कहानियां गुंडों की नाम कहानी विषय में सहेजी हैं, जिनसे वे पहचाने जाते हैं। परिवार के दिए नाम अमूमन ऐसे ओझल होते हैं कि किसी को याद ही नहीं रहते।

 

मुंभाई रिटर्न्स में आपको मिलेगी ऐसी महिलाओं और बारबालाओं के किस्से, जिन्होंने भूमिगत संसार को अपनी खूबसूरती, चालाकी व क्रूरता से बदल कर रख दिया। इनमें से कुछ देहजीवाएं थीं, कुछ पारिवारिक। किसी न किसी कारण इस खेल का वे भी हिस्सा बन चलीं।

 

मुंभाई रिटर्न्स में छोटा राजन के देशभक्ति के शंखनाद के साथ बमकांड आरोपियों को गोलियों से उड़ाने के किस्से हैं, तो दाऊद इब्राहिम – छोटा शकील द्वारा शिवसेना नेताओं को चुन-चुन कर रक्तस्नान करवाने के दिल दहलाते किस्से भी हैं।

 

मुंभाई रिटर्न्स में गिरोहों के हथियारों की खरीद-फरोख्त, तस्करी से उनके इस्तेमाल तक की पूरी जानकारियां हैं, तो कैसी-कैसी अत्याधुनिक तकनीक और उपकरण वे उपयोग में लाते हैं, उसकी भी तफसील है।

 

पुलिस मुठभेड़ों ने कैसे रक्तपिपासु प्रेतों के तांडव पर रोक लगाई, कैसे मुठभेड़ों ने पुलिस का इतिहास ही बदल दिया, सब कुछ समेटा है मुठभेड़ों का सच विषय के तहत। टाडा जैसे सख्त कानून के चलते माफिया की कैसे कमर टूटी, उसकी आंकड़ों समेत तफसील भी एक हिस्से में है।

 

कैसे ये गुंडे और अपराधी पुलिस की समझ में न आने वाली कूट भाषा गढ़ते हैं, उसका पूरा सिलसिला है। और हां, यह सब समझने के लिए गिरोहबाजों, प्यादों, खबरियों में प्रचलित शब्दों व मुहावरों का पूरा जखीरा अंत में है ही।

 

ये अंडरवर्ल्ड श्रृंखला की दूसरी किताब है। इसकी तीसरी पुस्तक का इंतजार अधिक दिनों तक नहीं करना होगा, वह भी तैयार है।

लेखक – विवेक अग्रवाल

प्रकाशक – वाणी प्रकाशन

Leave a Reply