हथियारों का कुटीर उद्योग – भाग 1

posted in: News & Investigations | 2

देशभक्तों का समाज है सिकलीगर

मध्यप्रदेश के कुछ जिलों में सिकलीगर नामक एक समुदाय है, जो अपने घरों में रिवाल्वरें और पिस्तौलें बड़ी खूबी से बनाता है। आलम तो यह है कि इनके बनाए हथियार उत्तरप्रदेश और बिहार के माफिया भी खरीदने के लिए चले आते हैं क्योंकि ये हथियार फैक्ट्री मेड के मुकाबले सस्ते होते हैं, लेकिन उतने ही भरोसेमंद माने जाते हैं। भले ही कानून बन गए हों, पुलिस की छापामारी जारी है, लेकिन सिकलीगर अपना पुश्तैनी कारोबार छोड़ नहीं पाते। इंडिया क्राईम के लिए देश के ख्यातनाम खोजी पत्रकार विवेक अग्रवाल ने इस इलाके के अंदर तक जाकर पूरी पड़ताल की। इंडिया क्राईम की यह बेहद खास और एक्सक्लूसिव रपट –

 

यह जानकारी मिलती है कि सिखों की एक धारा मध्यप्रदेश के खरगोन, खंडवा और बुरहानपुर जिलों में पाई जाती है, जिसे सिकलीगरों के नाम से पहचाना जाता है। सिखों के पहले गुरू ने मुस्लिम हमलावरों से देश को बचाने के लिए जो सेना बनाई थी, उसे हथियारों की आपूर्ति के लिए कुछ बंजारों को अमृत छका कर सिख बना लिया। ये सिख सेना के लिए हथियार बनाने लगे। उनके बनाए हथियार इतने शानदार और उपयोगी होते थे कि उनके बल पर सिख सेना दुश्मनों के दांत खट्टे कर देती थी।

 

कालांतर में जब सिख सेना खत्म हो गई तो ये हथियार बनाने वाले बंजारे सिख भी बेरोजगार हो गए। उन्होंने हथियार बनाने का पेशा जारी रखा, जो अब अवैध हो गया है। और यही उनके लिए बड़ी परेशानी बन चला है। बुरहानपुर के इतिहासकार, डॉ. मोहम्मद शफी का कहना है कि इस समाज की सबसे बड़ी विडंबना यही है कि इतना पुराना और शानदार इतिहास होने के बावजूद वे उपेक्षित और अभिशप्त जीवन जीने के लिए मजबूर हैं। सिकलीगर समाज के नेता और ढाबे के मालिक दीवान सिंह का कहना है कि उनका समाज तो सिक्ख गुरूओं के आदेश पर सेना के साथ कदम से कदम मिला कर चला था। तभी से हथियार बनाना उनका पेशा बन गया। हम तो उसके पहले तक खेती-बाड़ी के उपकरण और घरेलू काम में आने वाले साजो-सामान ही बनाते थे।

 

अब इन जिलों में सिकलीगरों के हर गांव और घर में बनते हैं हथियार। वे बनाते हैं देसी कट्टे, पांच, छह या सात राऊंड के रिवाल्वर और छह से 30 गोलियों की मैगजीनों वाली स्वचालित पिस्तौलें। एक देसी कट्टा बनाने में इन्हें लगते हैं दो दिन, तो बेहतरीन किस्म की पिस्तौल बनाने में मात्र पांच से दस दिन। और ये हथियार बिक जाते हैं दो सौ से लेकर बीस हजार रुपए तक की कीमत पर।

 

इंडिया क्राईम ने धार और बुरहानपुर के सिंघाना और पाचौरी गांवों में जब सिकलीगरों के कामकाज का जायजा लिया तो पाया कि बीस-तीस रुपए के कबाड़ को घर में ही पिघला कर बनाए लोहे को ठोंक-पीट कर हथियार बनाए जाते हैं। पांच साल के बच्चे से साठ साल के बुजुर्ग तक सब इसी काम में लगे हैं। ऐसा लगता है, मानो पूरे इलाके में हथियारों का कुटीर उद्योग चल रहा है।

 

आगामी अंक में पढ़ें व देखें – कबाड़ से चमत्कार

अपराध जगत के सनसनीखेज समाचार जानने के लिए सब्सक्राईब करें हमारा यूट्यूब चैनल, जिसकी लिंक है 

इंडिया क्राईम यूट्यूब लिंक

2 Responses

  1. Harjinder Singh

    British shaasankal me SIKLIGAR sikho ko zarayam-pesha ghoshit karne ke baad se hi sikligar sikho ka shoshan samay ki sarkarein aaj tak kar rahi hai. Hakikat yahi hai ki sikligar ek bahadur kom hai, jo ki Prithvi Raj Chauhan, Maharana Pratap ityaadi ke shaasankal se bhi bahot pehle se shastar banati aa rahi hai aur yeshastar tyyar karna sikligaro ka pushtaini pesha bhi hai. Badi sheen vidambana hai ki, samay ki sarkaro ne chaahe vo Mughalia Sultanat ho, Britishers ho ya apne aap ko democratic kehne wali aaj ki Bharat Sarkar ho in sabhi ne sikligaro
    Ke Hathiyar banane ke iss pushtaini kam ko Zabran bannd to karva diya lekin inke liye aaj tak koi bhi iss kam ka alternate solution kabhi nahi nikala, jisse ki sarkar dwara zulm saaf taur se darashata hai

  2. Harjinder Singh

    Itihas gavah hai ki kis tarah se 1857 ke revolt ke baad se hi Britishers ne azadi ki awaz ko buland karne walo par kis tarah ke barbar kanoon bana karke inki awaz ko kuchalne ka kam kiya, iss krantikari aandolan me sikligar sikho ka bahot bada yogdan tha aur isme sikligar sikho ne apni jaan ki bazi lagate hue khoob bad-chadkar hissa liya tha.Lekin ye baat angrezo ko chubh rahi thi kyonki 1857 ke aandolan ne angrezo ki naak me dam kar diya tha jise kuchalne ke liye angrezo ne Sikligar sikho ke shastar banane wale pushtaini peshe par bann laga diya tha jisse ki sikligaro ko apni jivika chalane athva rozgar ki talaash ke liye junglo aur anya gao ki aur rukh karna pada kyonki unke iss Hathiyar banane ke peshe par bann lagakar angrezo dwara zabran gaer-kanooni ghoshit kar diya gya tha. Iska prabhav sikligaro ke jeevanpar bahot hi ghatak pada jisse vo aaj tak uber nahi paaye aur samajik aur aarthik taur se kaafi kamzor hai.
    Haalaki sikligar sikho ka gauravmayi itihas bahot bada hai jisse sirf kuchh hi shabdo me byaan karna mumkin nahi, lekin post ke ant me mai Government se apeal karna chahoonga ki sikligaro ke iss peshe par angrezo dwara bann lagakar unki rozi roti chhini gyi thi kyonki os samay iss desh logo par angrezo ka raaj tha lekin aaj to sarkar kehti hai ki ham azad hai agar ham sach me azad hai to iss bahadur sikligar sikho par se unke pushtaini kaam ke bann ka solution kab niklega taki unko unka asal rozgar prapt ho sake jisse ki sikligaro ka samajik aur aarthik starr mazboot ho sake.Kya hamare desh ke kanoon aur sanvidhan me aisa koi bhi samadhan nahi hai ki jo prajatiyaan apni khushi se hazaroon salo se apna pushtaini kam-kaj karti aayi hai agar vo usi kam ko aaj bhi karna chahe to vo kar sake..?? Kya sanvidhan me iska koi samadhan hai..?? Jabki SIKLIGAR ka to matlab hi yahi hai jo Hathiyar ya Shastar tyyar karne wala KAARIGAR…..

Leave a Reply